UK की भारतवंशी प्रोफेसर का दावा- बेंगलुरु में एंट्री रोकी: कर्नाटक सरकार ने बुलाया था; भाजपा बोली- पाकिस्तान के समर्थकों को बुलाना संविधान का अपमान

  • Hindi News
  • National
  • UK Indian Origin Professor Claimed She Was Denied Entry In Bengaluru| Karnataka Govt And BJP

बेंगलुरु2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

यूके की भारतीय मूल की एक प्रोफेसर निताशा कौल का दावा है कि उन्हें बेंगलुरु एयरपोर्ट पर लैंड करते ही वापस भेज दिया गया। निताशा कर्नाटक सरकार के न्योते पर एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने बेंगलुरु आई थीं।

निताशा कश्मीरी पंडित हैं और लंदन बेस्ड एकेडमीशियन हैं। उन्होंने अपने सोशल मीडिया (X) अकाउंट पर तमाम डॉक्यूमेंट्स शेयर किए हैं।

निताशा का ये भी दावा है कि बेंगलुरु एयरपोर्ट पर इमिग्रेशन अफसरों ने वापस लौट जाने के लिए कोई कारण नहीं बताया। यही नहीं, वापस जाने को लेकर निताशा को न तो नोटिस और न ही किसी तरह जानकारी पहले नहीं दी गई।

वहीं, कर्नाटक भाजपा ने अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर लिखा कि पाकिस्तान से सहानुभूति रखने वाले को हम यहां आने नहीं दे सकते। ये संविधान का अपमान है।

प्रोफेसर का सीधा आरोप- केंद्र सरकार ने एंट्री रोकी

प्रो. निताशा ने X पर सारे डॉक्यूमेंट शेयर किए हैं। उनका कहना है- मुझे कार्यक्रम में लोकतांत्रिक और संवैधानिक मूल्यों पर बोलना था। मुझे कर्नाटक सरकार ने बाकायदा इनवाइट किया था, लेकिन केंद्र सरकार ने एंट्री देने से मना कर दिया। मेरे सारे डॉक्यूमेंट (यूके पासपोर्ट और ओवरसीज सिटिजनशिप ऑफ इंडिया, OCI) वैध हैं।

निताशा के मुताबिक, अफसरों ने मुझे शामिल नहीं होने देने के लिए कोई कारण नहीं बताया। सिर्फ इतना ही कहा कि हम कुछ नहीं कर सकते, दिल्ली से ऑर्डर है। मेरा ट्रैवल-लॉजिस्टिक्स कर्नाटक सरकार ने ही अरेंज किया था। उनकी तरफ से बाकायदा ऑफिशियल लेटर दिया गया था। मुझे प्रोग्राम में एंट्री नहीं दी जाएगी, दिल्ली (केंद्र सरकार) की तरफ से कोई जानकारी नहीं दी गई थी।

ये खबर भी पढ़ें…

सिद्धारमैया बोले- मोदी सरकार ने वादे पूरे नहीं किए:कहा- कांग्रेस के गारंटी शब्द का इस्तेमाल अब प्रधानमंत्री कर रहे हैं

कर्नाटक के मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने मोदी सरकार पर लोगों से किए गए वादे पूरे नहीं करने का आरोप लगाया। उन्होंने केंद्र सरकार पर हमला करते हुए लोगों से पूछा, ‘क्या लोगों को राहत देने के लिए केंद्र द्वारा पेट्रोल और डीजल की कीमतें कम की गई हैं और क्या विदेशों में जमा काला धन वापस लाया गया है। क्या किसी को अच्छे दिन का एहसास हुआ?’ पूरी खबर पढ़ें…

खबरें और भी हैं…