कांग्रेस विधायक सुखपाल खैहरा अरेस्ट: जलालाबाद पुलिस ने चंडीगढ़ से NDPS केस में किया गिरफ्तारी; घूंट पानी भी नहीं पीने दिया, हाथ से छीना गिलास

अमृतसर20 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक
कांग्रेस विधायक सुखपाल खेहरा को ले जाते हुए जलालाबाद पुलिस। - Dainik Bhaskar

कांग्रेस विधायक सुखपाल खेहरा को ले जाते हुए जलालाबाद पुलिस।

पंजाब के भुलत्थ से कांग्रेस विधायक सुखपाल सिंह खैहरा को गुरुवार सुबह 6.20 बजे गिरफ्तार कर लिया गया है। उन्हें गिरफ्तार करने के लिए जलालाबाद पुलिस उनके चंडीगढ़ सेक्टर 5 स्थित निवास स्थान पर पहुंची। पुलिस का कहना है कि उनके खिलाफ NDPS एक्ट का एक पुराना मामला था, जिस पर कार्रवाई करते हुए उन्हें अरेस्ट किया जा रहा है। जल्द उन्हें जलालाबाद कोर्ट में पेश किया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक, सुखपाल खैहरा को 2015 के एक पुराने NDPS मामले में जांच चल रही थी। इसमें बताया जा रहा है कि DIG के अंतर्गत बनी SIT की रिपोर्ट के आधार पर अब उनकी गिरफ्तारी हुई है। इस SIT में दो SSP भी शामिल रहे हैं। जबकि सुखपाल खैहरा का कहना है कि यह एक झूठा केस था, सुप्रीम कोर्ट ने भी उन्हें इस केस में राहत दी है।

जलालाबाद से DSP शर्मा पहुंचे गिरफ्तार करने

घर में पुलिस के पहुंचने पर सबसे पहले विधायक खैहरा ने सीनियर अधिकारी की पहचान पूछी। इस पर जवाब मिला कि वे डीएसपी जलालाबाद ए.आर. शर्मा हैं और 2015 NDPS एक्ट मामले में उनको गिरफ्तार करने आए हैं। इस पूरे घटनाक्रम में खैहरा पुलिस अधिकारियों से बार-बार अरेस्ट वारंट की मांग करते भी दिखे।

पंजाब में जंगल राज: खैहरा

सुखपाल सिंह खैहरा ने अरेस्ट से पहले कहा- यह पंजाब में जंगल राज, बदलाखोरी का राज चल रहा है। क्योंकि मैं सीएम भगवंत मान का विरोध करता हूं, इसलिए यह मेरे खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। मेरे पीछे सभी मेरे बेटे के साथ संपर्क कर सकते हैं।

बदलाखोरी के 50 केस हैं मेरे पर

खैहरा ने कहा- सभी से अपील है कि चिंता नहीं करनी। पहले भी 50 बदलाखोरी के केस मेरे पर पड़ चुके हैं। आराम से लडूंगा, मेरे में दम है। पर ये इनकी करतूत देख लो, पुराने 2015 के झूठे केस में चंडीगढ़ से अरेस्ट कर रहे हैं। जिसमें सुप्रीम कोर्ट ने सम्मन क्रैश किए हुए हैं, रिलीफ मिली हुई है। फिर भी उसी केस में गिरफ्तार किया जा रहा है, जिसमें से कुछ मिला भी नहीं।

क्या था 2015 का मामला

मार्केट कमेटी ढिलवां के पूर्व चेयरमैन गुरदेव सिंह सहित नौ लोगों को 2015 में जलालाबाद पुलिस ने 2 किलो हेरोइन, 24 सोने के बिस्कुट, एक देसी .315-बोर पिस्तौल, दो पाकिस्तानी सिम कार्ड और एक टाटा सफारी कार के साथ गिरफ्तार किया था। इस मामले में खेहरा का नाम मार्केट कमेटी ढिलवां के पूर्व चेयरमैन गुरदेव सिंह के साथ कथित संबंधों के कारण सामने आया था।

वहीं, खैहरा के साथ-साथ निजी सुरक्षा अधिकारी (PSO) जोगा सिंह, निजी सहायक मनीष, बाठ गांव (जालंधर) का एक व्यक्ति, NRI यूके निवासी चरणजीत कौर और बाजवा कलां गांव (जालंधर) के मेजर सिंह बाजवा का नाम भी मामले में सामने आया था।

खबरें और भी हैं…